रोज़ेदार को इफतार कराने की फज़ीलत